Breaking News

Fact Report : पशुपतिनाथ मंदिर पर 14 बाल भिक्षुक मिले

Story Highlights

  • अधिकारी ने बच्चों को भिक्षा दे रहे लोगों को समझाया इन्हें भिक्षा की नहीं शिक्षा की जरूरत है’

मंदसौर निप्र। श्रावण मास एवं हरियाली अमावस्या होने से रविवार को बारिश की फुहारों के बीच भी पशुपतिनाथ मंदिर पर भारी भीड़ रही।वहीं मंदिर के बाहर अनेक भिक्षुक भी बैठे थे जिनमें बड़ी संख्या में बच्चे भी शामिल थे। ऑपरेशन मुस्कान के तहत जब टीम वहां पहुँची तो 14 बच्चे वहां भिक्षावर्ति्त करते पाये गये।सभी बच्चों से जब पूछताछ की गयी तो पता चला कि बच्चे संजय हिल्स पारदी बस्ती के निबासी है तथा अधिकांस बच्चों के नाम स्कूलों में दर्ज है पर वह कभी कभी स्कूल जाते है।बच्चों के साथ उनके परिजन भी थे किसी के साथ मां थी तो किसी के साथ पिता थे जिन्हें बच्चों से भिक्षावर्ति्त न कराने की हिदायत दी गयी।बाल संरक्षण अधिकारी राघवेंद्र शर्मा ने उन्हें कड़े शब्दों में यह चेतावनी दी यदि दोवारा बच्चे भीख मांगते मिले तो परिजनों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जायेगी।
’कार्यवाही देख भागे भिक्षुक’
जब अधिकारी परिजनों से पूछताछ कर रहे थे तभी कुछ परिजन अपने बच्चों के साथ समान समेटकर भाग खड़े हुये।वहां जब बच्चों के परिजनों को अधिकारी शर्मा के द्वारा भिक्षावर्ति्त न कराने एवं नियमित स्कूल भेजने के लिये समझाया जा रहा था तभी वहां कुछ महिला श्रद्धालुओं को बच्चों को खाद्य सामग्री वितरित करते देख अधिकारी ने उन्हें रोका और समझाया कि इन्हें भिक्षा की नही शिक्षा की जरूरत है।बच्चों से भीख मंगवाना एवं उन्हें भीख देना दोनों ही स्थितियां अपराध है।बच्चों को भीख देकर आप उन्हें पंगु बनाते है।बच्चों को यदि देना है तो उन्हें अच्छी शिक्षा दीजिये।जिस पर वहां उपस्थित बच्चों के परिजनों ने रविवार होने से भिक्षा के लिये आने की बात कहकर भविष्य में भिक्षावर्ति्त न कराने का भरोसा दिया। ऑपरेशन मुस्कान के तहत आज अभियान में बाल संरक्षण अधिकारी राघवेंद्र शर्मा के साथ उपनिरीक्षक उपेन्द्र सिंह भदौरिया , चाइल्ड लाइन से शाकिर मंसूरी एवं सामाजिक कार्यकर्ता नितिन सोनी सम्मलित थे।
’बाल भिक्षावर्ति्त निषेध बोर्ड लगेगा’
बच्चों से भीख मंगवाना एवं भीख देकर उन्हें भिक्षावर्ति्त के लिये प्रेरित करना दोनों कार्य अपराध है।बच्चों को भीख नही शिक्षा की सीख देना चाहिये।आज 14 बच्चे भिक्षावर्ति्त करते मिले थे उनको समझाया गया है तथा मंदिर परिसर में बाल भिक्षावर्ति्त निषेध के बोर्ड लगवाया जायेगा।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts