Breaking News

मंदसौर PG कॉलेज : छात्र नेताओं ने प्रोफेसर को कहा देशद्रोही, पैरों में पढक़र प्रोफेसर ने मांगी माफी

मंदसौर। शहर के पीजी कॉलेज में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं जब ज्ञापन देने पहुंचे तब हंगामा खड़ा हो गया। ज्ञापन देने से पहले भारत माता की जय के नारें लगा रहे कार्यकर्ता को क्लास रुम में प्रोफेस दिनेश गुप्ता ने जब नारे लगाने से रोका तो छात्र नेता भडक़ गए और गुप्ता को देशद्रोही बता दिया। और कार्रवाई की मांग की। मामले ने इतना तूल पकड़ा कि प्राचार्य खूद डरकर छात्रों के बीच पहुंचे और भारत माता के नारें लगाने लगे। बाद में बढ़ता मामला देख प्रोफेसर गुप्ता ने छात्र नेताओं के पैरों में पढक़र माफी मांगी।
इतना ही नहीं एबीवीपी के कॉलेज ईकाई अध्यक्ष राधे गोस्वामी ने प्रोफेसर को ही इन सबके लिए जिम्मेदार बताया और माइंड डिस्टर्ब होने की तक बात कही। एबीवीपी के प्रदर्शन के बीच प्रोफेसरों व छात्र नेताओं में तीखी बहस हो गई और जमकर नारेबाजी भी हुई। इसके बाद प्रोफेसर ने एक-एक छात्र नेतों के पैरों में गिरकर माफी मांगी। इतना ही नहीं यह घटनाक्रम देखते ही छात्र नेता कुछ समझ भी नहीं पाई और इधर-उधर हो गए, लेकिन प्रोफेसर ने कॉलेज गेट तक पहुंचकर एक-एक को पकडक़र उनसे माफी मांगी।

बुधवार को पीजी कॉलेज में अभाविप के छात्र नेता एवं अन्य छात्र बीएससी चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा के परिणाम 4 माह बाद भी घोषित नहीं होने से छात्रों को हो रही परेशानी के संबंध विक्रम यूनिवर्सिटी के कुलपति के नाम प्राचार्य को ज्ञापन देने पहुंचे। इस दौरान अभाविप के छात्र नेताओं के साथ मिलकर अन्य छात्र कॉलेज परिसर में नारेबाजी करने लगे। इस दौरान नारेबाजी करते हुए छात्र नेता प्रोफेसर दिनेश गुप्ता की कक्षा के समीप पहुंचे। इस दौरान प्रोफेसर ने उनसे कुछ कहा। इसी को लेकर हंगामा खड़ा हो गया। छात्र नेताओं ने आरोप लगा दिए कि प्रोफेसर गुप्ता उन्हें भारत माता की जय बोलने एवं वंदेमातरम बोलने से मना कर रहे है। इसके बाद छात्र नेता प्रोफेसर गुप्ता के द्वारा मांफी मांगने की बात पर अड़ गये। इस दौराना छात्रों ने अपनी मांगों का ज्ञापन प्राचार्य डॉ. आरके सोहोनी को सौंपा।

नारेबाजी करने से मना किया

छात्रों द्वारा देशधोह के आरोप लगाने पर प्रोफेसर दिनेश गुप्ता को ठेस पहुंची। वे भावुक हो गए। उन्होंने कहा मैंने छात्रों को भारतमाता की जय बोलने से मना नहीं किया जबकि नारेबाजी करने से मना किया था। इस दौरान छात्र प्रोफेसर से माफी मांगने की बात पर अड़े रहे तब प्रोफेसर गुप्ता छात्रों के पैरो में गिरने लगे, एक छात्र के पैर भी पकड़ लिए। पूर्व प्राचार्य बीआर नलवाया ने प्रोफेसर गुप्ता को समझाइश देकर शांत कि या। इस दौरान प्रोफेसर बार-बार यही कहते रहे कि मैंने भारतमाता की जय बोलने से किसी भी छात्र को मना नहीं किया।

आरोप गलत हैं

मैं अपनी कक्षा में विद्यार्थियों को पढ़ा रहा था। बाहर छात्रों द्वारा की जा रही नारेबाजी से पढ़ाई में व्यवधान होने पर मैंने कक्षा से बाहर निकलकर छात्रों को नारेबाजी करने से मना कर दिया न की भारतमाता की जय एवं वंदेमातरम बोलने से। मैं छात्रों से ज्यादा राष्ट्रवादी हूं। मुझ पर छात्रों द्वारा लगाए गए आरोप गलत हैं – दिनेश गुप्ता, प्रोफेसर, पीजी कॉलेज मंदसौर

माफी मांगना चाहिए

मई माह में बीएससी चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा हुई थी, लेकिन अब तक रिजल्ट घोषित नहीं हुआ। इसी को लेकर छात्र ज्ञापन देने पहुंचे थे। आक्रोशित छात्र नारेबाजी कर रहे थे। इस दौरान रास्ते से निकल रहे प्रोफेसर ने छात्रों से कहा भारत माता की जय नहीं बोलेंगे। छात्रों ने कहा कि यह जेएनयू नहीं है। पीजी कॉलेज है। इस दौरान एक छात्र ने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि प्रोफेसर को सार्वजनिक माफी मांगना चाहिए, तो प्रोफेसर ने उस छात्र के पैर पकड़ लिए। यह प्रोफेसर के सम्मान के खिलाफ है उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए – पवन शर्मा, जिला संयोजक, अभाविप

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts