Breaking News

प्रतापगढ़ जाने वालों के लिए खुशखबरी : मंदसौर- प्रतापगढ़ सड़क का हुआ शिलान्यास

प्रतापगढ। मंदसौर रोड की जर्जर हालत के बाद स्थायी लोक अदालत के आदेशानुसार इस सड़क की हालत सुधरने जा रही है। स्थायी लोक अदालत में पीडब्ल्यूडी विभाग के स्थानीय से लेकर जयपुर तक के अधिकारियों को तलब किया गया था। लोक अदालत के आदेश के बाद इस रोड के सुधार के लिए बजट आबंटित किया गया। गुरुवार को कार्यकारी एजेंसी आरएसडीसी रोड बनाने वाले ठेकेदार से सड़क निर्माण के मानकों की चर्चा की जानी थी। लेकिन गुरुवार को जनजाति मंत्री के शिलान्यास कार्यक्रम के कारण अब आगामी 20 अप्रैल को यह पेशी होगी। जनजाति क्षेत्रीय विकास मंत्री नंदलाल मीणा ने गुरुवार को जिले के राजपुरिया गांव में हुए समारोह के दौरान 8198.86 लाख के 26 कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। जिला प्रमुख सारिका मीणा की अध्यक्षता एवं कलेक्टर नेहा गिरि, सागवाड़ा विधायक अनीता कटारा, सभापति कमलेश दोषी, हेमंत मीणा आदि के आतिथ्य में हुए समारोह में जनजाति क्षेत्राय विकास मंत्रा ने लोगों की समस्याएं सुनकर मौके पर ही उनके निस्तारण के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए तथा विकास कार्यों की मांग पर लोगों को यथाशीघ्र स्वीकृति का भरोसा दिलाया।

इस मौके पर उन्होंने कहा कि राज्य सरकार प्रतापगढ सहित आदिवासी क्षेत्र के विकास के लिए प्रतिबद्ध है और क्षेत्र के विकास के लिए भरपूर धन दिया जा रहा है। बजट के दौरान मुख्यमंत्री ने जिले को अधिकतम लाभ देने का प्रयास किया है। राज्य सरकार की ओर से प्रतापगढ जिले के बचे हुए क्षेत्रों को भी जनजाति क्षेत्रा में शामिल करने का प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजा गया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री को अपने प्रदेश की ग्रामीण जनता की भरपूर चिंता है और यही कारण है कि गांवों के विकास के लिए भरपूर काम किया जा रहा है।

प्रतापगढ़-मंदसौर सड़क के शिलान्यास पर प्रसन्नता जाहिर करते हुए उन्होंने कहा कि यह सड़क क्षेत्र के लोगों के आवागमन को सुगम बनाएगी लेकिन यहां के लोगों के इसके निर्माण के दौरान गुणवत्ता का ध्यान रखना चाहिए। मीणा ने कहा कि इस बार उन्होंने रतनपुरिया को आदर्श ग्राम योजना में चुना है, इससे वहां और बेहतर विकास हो सकेगा। जिला कलेक्टर नेहा गिरि ने कहा कि सभी विकास कार्य जनोपयोगी हैं और इससे यहां के लोगों को भरपूर लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि प्रतापगढ में जनप्रतिनिधि का आमजन से बहुत अच्छा संवाद है, जिसके चलते समस्याओं के निराकरण में आसानी रहती है। सागवाड़ा विधायक अनीता कटारा ने कहा कि हालांकि प्रतापगढ राजस्थान का 33 वां जिला कहा जाता है लेकिन इतने व्यापक पैमाने पर विकास कार्यों ने इसे नंबर वन जिला बना दिया है। उन्होंने मंत्री नंदलाल मीणा द्वारा वृहद स्तर पर कराए जा रहे विकास कार्यों की सराहना की। प्रतापगढ सभापति कमलेश दोषी ने कहा कि मीणा के प्रयासों से जिले की पेयजल समस्या के समाधान के लिए करीब एक हजार करोड़ रुपए का बजट प्रावधान किया गया है, जिसका लाभ जिले के 554 गांवों को मिलेगा। उन्होंने जिला परिषद में विशाल सभागार बनाने, विभिन्न सड़कें बनाने, मुक्ताकाश व्यायामशाला बनाने सहित विभिन्न विकास कार्यों के लिए मंत्रा मीणा से अनुरोध किया।

इस दौरान बरोठा, डाबड़ा, कूणी, कल्याणपुरा, गरदोड़ा, झांसड़ी, वरमंडल, बडीलांक, सुहागपुरा, सालमगढ सहित विभिन्न गांवों के प्रतिनिधियों ने गांव में हो रहे विकास कार्यों एवं योजनाओं को लेकर फीडबैक दिया। मंत्री ने गांवों की समस्याओं के बारे में उनसे पूछताछ की और आवश्यक विकास कार्यों की स्वीकृति का भरोसा दिलाया। इससे पूर्व मंत्रा का समारोह स्थल पहुंचने पर ढोल-नगाड़ों के साथ भव्य स्वागत किया गया। कार्यकर्ताओं ने साफा, शॉल एवं बड़ी मालाएं पहनाकर मीणा व अतिथियों का अभिनंदन किया। इस दौरान प्रतापगढ प्रधान कारीबाई मीणा, अरनोद प्रधान सुमन मीणा, धनराज शर्मा, उप प्रमुख आशीष जैन, एसीईओ रामेश्वर मीणा, एसडीएम, तहसीलदार, सीएमएचओ, बीडीओ अनिल पहाड़िया सहित अधिकारी, जनप्रतिनिधि, सरपंचगण एवं बड़ी संख्या में ग्रामीण महिला-पुरुष मौजूद थे।

इन कार्यों का हुआ लोकार्पण
जनजाति विकास मंत्री, जिला प्रमुख, जिला कलक्टर एवं सभापति सहित अतिथियों ने समारोह में प्रतापगढ के आवासीय विद्यालय परिसर में 22.28 लाख की लागत से बने सामुदायिक भवन, 50-50 लाख रुपए की लागत से बने वरमंडल, डाबड़ा, घोटारसी, अमलावद एवं पीलू के ग्रामीण गौरव पथ, 36.82 लाख की लागत से बनी सोनपुर से गंधेर 1.5 किमी सड़क, 35.87 लाख रुपए की लागत से बनी सिद्धपुरा से करमदीखेड़ा 1.4 किमी सड़क, 31.15 लाख रुपए की लागत से बनी बमोतर स्कूल से अंबामाता 1.5 किमी सड़क तथा 97.10 लाख की लागत से बनी बमोतर से पांच इमली 2.6 किमी सड़क का लोकार्पण किया।

प्रतापगढ़-मंदसौर रोड का हुआ शिलान्यास
समारोह के दौरान 62 करोड़ रुपए लागत की प्रतापगढ़-मंदसौर सड़क के अलावा सार्वजनिक निर्माण विभाग की ओर से होने वाले 1525.64 लाख रुपए लागत के 15 कार्यों का शिलान्यास किया गया। इनमें 630.82 लाख रुपए की लागत का मॉडर्न मल्टीपरपज स्पोर्ट्स स्टेडियम निर्माण कार्य, 80 लाख का राउमावि प्रतापगढ की चारदीवारी मरम्मत, कक्षा कक्ष मरम्मत एवं कुए की चारदीवारी निर्माण कार्य, 12 लाख रुपए की लागत का राउमावि प्रतापगढ के मैदान समतलीकरण का कार्य, 85 लाख की लागत से सार्वजनिक स्टेडियम में सीढियां निर्माण, काउ कैचर निर्माण, पानी निकासी, सार्वजनिक शौचालय निर्माण एवं चारदीवारी मरम्मत कार्य, 38.13 लाख की लागत का राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय प्रतापगढ में अतिरिक्त कक्षा कक्ष निर्माण कार्य, 25 लाख की लागत से जनजाति भवन से गुप्ता गंगा तक सड़क निर्माण कार्य, 12 लाख की लागत से मिनी सचिवालय परिसर में महात्मा गांधी के स्मारण निर्माण का कार्य, 18 लाख की लागत से पुलिस लाइन परिसर में अमर ज्योति एवं शहीद स्मारक निर्माण का कार्य तथा बालक खेल छात्रावास व इंडोर स्टेडियम के सामने 18 लाख रुपए की लागत के गवरी चौराहे का निर्माण कार्य शामिल है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts