Breaking News

SBI में अकाउंट रखने वालों के लिए बुरी खबर

Hello MDS Android App

New Delhi : अकाउंट होल्डर्स के लिए अपने अकाउंट में न्‍यूनतम बैलेंस को बनाए रखना अनिवार्य करने के लिए स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) ने कहा है कि वह ऐसे डिफॉल्‍टर्स से फाइन लेना शुरू करेगी।

एसबीआई ने मेट्रो शहरों के लिए न्‍यूनतम बैलेंस 5,000 रुपए, शहरी इलाकों के लिए 3,000 रुपए, अर्द्ध-शहरी इलाकों के लिए 2,000 रुपए और ग्रामीण इलाकों के लिए 1,000 रुपए तय किया है।

इस न्यूनतम बैलेंस से यदि किसी अकाउंट होल्डर के अकाउंट में कम पैसा रहेगा तो 1 अप्रैल से उन पर फाइन लगाया जाएगा। यह फाइन अनिवार्य न्‍यूनतम बैलेंस और उसमें कमी के बीच अंतर पर आधारित होगा।

मेट्रो शहरों में यदि न्‍यूनतम बैलेंस में 75 प्रतिशत से अधिक की कमी होगी तो सर्विस टैक्स के साथ 100 रुपए का फाइन देना होगा। यदि न्‍यूनतम बैलेंस में कमी 50-75 प्रतिशत के बीच है तो सर्विस टैक्स के साथ 75 रुपए का फाइन देना होगा। वहीं 50 प्रतिशत से कम बैलेंस होने पर सर्विस टैक्स के साथ 50 रुपए का फाइन अदा करना होगा।

नक़दी रहित आर्थिक व्यवस्था बनाने के लिये मोदी सरकार द्वारा अब तक किये जा रहे प्रयास तो अच्छे है परंतु नकद व्यवहार करने वालो को दंडित किया जाना लोकतंत्र में सर्वथा अनुचित है और मेरे ख्याल से असंवेधानिक भी।

दूसरी ओर ग्रामीण इलाकों के लिए न्‍यूनतम बैलेंस न रखने पर सर्विस टैक्स पर 20 रुपए से लेकर 50 रुपए का फाइन देना होगा। एक अप्रैल से एसबीआई ब्रांच में एक महीने में तीन कैश ट्रांजैक्‍शन्स के बाद किए जाने वाले प्रत्‍येक ट्रांजैक्‍शन पर 50 रुपए का शुल्‍क भी देना होगा।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

1 Comment

  1. राकेश वर्मा

    S B I का यह निर्णय गरीब और मध्यमवर्गीय लोगो के लिए अभिशाप है बैंकिंग सुविधाओं का सरलीकरण होने के बजाय जटिलताएं बढ़ती जा रही है बैंक लोगो को प्रेरित करने व बचत कावाने का एक महत्वपूर्ण इकाई है
    स्टार्ट अप इण्डिया मेक इन इण्डिया को ये गहरा धक्का है
    सरकार को सुध लेना चाहिए जिस विकासशील देश में आज भी 20 करोड़ लोग एक वक्त के भोजन के लिए तरसते है वहाँ बैंक्स का ये फरमान अच्छे दिनों की याद दिला रहा है

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *