Breaking News

SP मनोज कुमार सिंह सहित २४ लोगो को मेरी मौत का जिमेदार माना जावे- अनिल सोनी

ज्वेलर्स अनिल सोनी ने शपथ पात्र देकर लगाया सनखीनेज़ आरोप

मंदसौर | अवैध वसुलीबाज़ लाला पठान गिरोह से पीड़ित डायमंड ज्वेलर्स के संचालक ज्वेलर्स अनिल सोनी ने सोमवार को  प्रेस वार्ता में  मंदसौर पुलिस अधीक्षक मनोजकुमार सिंह सहित कय्यूम लाला, फिरोज लाला, वसीम लाला, आजम लाला, जेत लाला, बबलू उर्फ़ शराफत लाला, चुन्नू लाला, दाउद लाला, शोएब लाला, केप्टन लाला, रोशन लाला, मोहसीन लाला, अख्तर लाला, अमज़द लाला, खानसद लाला, शहनाज़ लाला, सम्मत लाला, हैदर लाला, आसिफ लाला, बाबू फ़क़ीर, बाबू बिल्लोद, पिपलियामंडी व्यापारी सुधीर जैन, जस्सू अग्रवाल, धीरज अग्रवाल आदि को अपनी असामयिक मौत का जिम्मेदार करार दिया है। अनिल सोनी ने पत्रकारों को बाकायदा एक शपथपत्र के माध्यम से अपनी बात कही।

उल्लेखनीय है की डायमंड ज्वेलर्स एक प्रतिष्ठित ज्वेलरी फर्म है जिसको डरा धमका कर एक करोड़ की फिरौती मांगी जा रही थी | उसी के चलते मंदसौर में दिसम्बर २०१६ में बदमाशो ने मंदसौर स्थित शो रूम पर चार फायर किये थे | फिर १० जनवरी २०१७ को नीमच में अनिल सोनी की गाडी पर फायर किये जिसमे उनके सहयोगी भाई अजय सोनी को गोली लगी जो आज भी जीवन और मौत से बीच झूल रहा है।

अनिल सोनी ने बताया कि फिरौतिबाज़ बदमाशो को पुलिस का प्रश्रय प्राप्त है ,तस्करी से लेकर ह्त्या और डर का यह गौरखधंधा बिना पुलिस की अभिरक्षा  में हो नहीं सकता है। मुझ पर दबाव बनाया जा रहा है। पुलिस ने मेरी सुरक्षा में लगे गार्ड की फ़ीस के लिए १३ लाख प्रतिमाह का बिल भेजा है। उधर वर्तमान एसपी मनोजकुमार सिंह जब नीमच पदस्थापित थे तब शूटर को लेने लालाओ के गाँव गए थे A वहां बड़े इत्मीनान से बदमाशो के घर चाय पीते हुए दिखाए गये  थे। इससे पुलिस और अपराधियों के बीच गहरे रिश्तो को आप समझ सकते है |

अपराधियों के खिलाफ ७००० हजार एफआईआर दर्ज –

आगे अनिल सोनी ने बताया कि प्रतापगढ़ राजस्थान जिले के अखेपुर ,सांकरिया ओउर नौगांवा के अपराधियों के खिलाफ ७००० हजार एफआईआर दर्ज है। जोकि एन्गान्वो की जनसंख्या से भी अधिक है। लेकिन पुलिस प्रशासन और जनप्रतिनिधियों को जेब में रखने वाले इन बदमाशो का अभी तक कोई बाल भी बांका नहीं कर पाया है।

मेरे खिलाफ कुछ भ्रष्ट पुलिस अधिकारी और कथित समाज सेवक , अपराधियों के साथ मिलकर षड्यंत्र कर रहे है ,जिससे मेरी ह्त्या की आशंका दिन प्रतिदिन बलवति होती जा रही है।

अनिल सोनी ने इस प्रकार के शपथपत्र देकर जिम्मेदारो के खलाफ जो अभियान चलाया है उससे कही ना कही भाजपा शासित हिंदू हितैषी  सरकार को सोचना पडेगा। सुशासन का दवा करने वाले जनप्रतिनिधियों को प्रशासन के कारिंदों को अपराधियों के जड़ मूल को समाप्त करने की सख्त चेतावनी देनी चाहिए। शहर के बाशिंदे अमन चैन से रहे इसकी पूरी जवाबदारी नेताओं पर है जबकि परदेशी अधिकारियों को आज नहीं तो कल अपने हिस्से का भ्रष्टाचार करके निकल  जाना है। लेकिन नेताओं को इन्ही पीडितो के बीच रहना है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts